पंचागम्

User Rating: 2 / 5

Star ActiveStar ActiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive
 
    ।।अथ पंचांगम्।। दिनाँक -: २२/0५/२०१८ मंगलवार,अष्टमी,शुक्ल पक्ष अधिक ज्येष्ठ ""(समाप्ति काल)"" तिथि--अष्टमी20:30:55 तक पक्ष शुक्ल नक्षत्र--मघा20:27:41 योग--व्याघात24:46:01 करण--विष्टि भद्र09:18:58 करण--भाव20:30:55 वार-----मंगलवार माह---अधिक ज्येष्ठ चन्द्र राशि-----सिंह सूर्य राशि-----वृषभ रितु--------ग्रीष्म आयन------उत्तरायण संवत्सर (उत्तर)-------विरोधकृत विक्रम संवत---------2075 विक्रम संवत (कर्तक)-------2074 शाका संवत------------1940 सूर्योदय-----------05:28:25 सूर्यास्त-----------19:03:35 दिन काल--------13:35:10 रात्री काल--------10:24:25 चंद्रोदय----------12:15:05 चंद्रास्त----------25:30:39 लग्न---वृषभ 6°46' , 36°46' सूर्य नक्षत्र-----------कृत्तिका चन्द्र नक्षत्र-----------मघा नक्षत्र पाया-----------रजत मी----मघा 08:53:09 मू----मघा 14:39:41 मे----मघा 20:27:41 मो----पूर्वाफाल्गुनी 26:17:10 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ======================= सूर्य=वृषभ 06°46 , कृतिका ,4 ए चन्द्र=सिंह 04 ° 44' मघा 2 मी बुध=मेष 20 ° 11' भरणी ' 3 ले शुक्र=मिथुन 08° 57 , आर्द्रा , 1 कु मंगल=मकर 08°04 'उत्तराषाढ़ा ' 4 जी गुरु=तुला 22°41' विशाखा , 1 ती शनि=धनु 14 ° 11'पू o षा o '1भू राहू=कर्क 15 ° 20 ' पुष्य , 4 ड केतु=मकर 15 ° 20' श्रवण, 2 खू *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 15:40 - 17:22अशुभ यम घंटा 08:52 - 10:34अशुभ गुली काल 12:16 - 13:58अशुभ अभिजित 11:49 -12:43शुभ दूर मुहूर्त 08:11 - 09:06अशुभ दूर मुहूर्त 23:14 - 24:08*अशुभ गंड मूल 05:28 - 20:28अशुभ 💮चोघडिया, दिन रोग 05:28 - 07:10अशुभ उद्वेग 07:10 - 08:52अशुभ चाल 08:52 - 10:34शुभ लाभ 10:34 - 12:16शुभ अमृत 12:16 - 13:58शुभ काल 13:58 - 15:40अशुभ शुभ 15:40 - 17:22शुभ रोग 17:22 - 19:04अशुभ 🚩चोघडिया, रात काल 19:04 - 20:22अशुभ लाभ 20:22 - 21:40शुभ उद्वेग 21:40 - 22:58अशुभ शुभ 22:58 - 24:16*शुभ अमृत 24:16* - 25:34*शुभ चाल 25:34* - 26:52*शुभ रोग 26:52* - 28:10*अशुभ काल 28:10* - 29:28*अशुभ 💮होरा, दिन मंगल 05:28 - 06:36 सूर्य 06:36 - 07:44 शुक्र 07:44 - 08:52 बुध 08:52 - 10:00 चन्द्र 10:00 - 11:08 शनि 11:08 - 12:16 बृहस्पति 12:16 - 13:24 मंगल 13:24 - 14:32 सूर्य 14:32 - 15:40 शुक्र 15:40 - 16:48 बुध 16:48 - 17:56 चन्द्र 17:56 - 19:04 🚩होरा, रात शनि 19:04 - 19:56 बृहस्पति 19:56 - 20:48 मंगल 20:48 - 21:40 सूर्य 21:40 - 22:32 शुक्र 22:32 - 23:24 बुध 23:24 - 24:16 चन्द्र 24:16* - 25:08 शनि 25:08* - 25:59 बृहस्पति 25:59* - 26:52 मंगल 26:52* - 27:44 सूर्य 27:44* - 28:36 शुक्र 28:36* - 29:28 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान-------उत्तर* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा गुड़ खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll *🚩अग्नि वास ज्ञान -:* 8 + 3 + 1= 12 ÷ 4 = 0 शेष पृथ्वी पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 8 + 8 + 5 = 21÷ 7 = 0 शेष शमशान भूमि = मृत्यु कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* प्रातः 09:21 तक समाप्त मृत्यु लोक = सर्वकार्य विनाशिनी *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* *राजा राममोहनराय जयन्ती * भौमाष्ठमी *।।जयतु भारती जयतु संस्कृतं।।*

देववाणी एंड्रायड एप डाउनलोड

वार्ताः


ग्रहों की कुछ विशेष राशियों में अशुभ प्रकृति...

१-सूर्य कुंभ मे २-चंद्रमा मकर मे ३-मंगल तुला मे ४-शुक्र म [ ... ]

अधिकम् पठतु
११५ ऋषियों के नाम,जो कि हमारा गोत्र भी है...* ...

*११५ ऋषियों के नाम,जो कि हमारा गोत्र भी है...* =================================== च [ ... ]

अधिकम् पठतु
आपकी राशि के अनुसार शिव अर्चना...

आपकी राशि और शिव पूजा शिव पुराण में उल्लेख हैं की महाशिवर [ ... ]

अधिकम् पठतु
बुद्ध और ब्राम्हण

बुद्ध और ब्राह्मण मूलनिवासी अकसर ब्राह्मणों को कोसते है [ ... ]

अधिकम् पठतु
सोमवार के ही दिन शिव की पूजा क्यों करते हैं जानें ...

🌿🌸🍃🌺🌿🌸🍃🌺🌿🌸🍃 *क्यों सोमवार" को ही *भगवान शिव की पूजा कर [ ... ]

अधिकम् पठतु
जानें महाशिवरात्री का वैज्ञानिक पहलू एवं छ्मा मंत्...

💐✍💐 *जानें महाशिवरात्रि का वैज्ञानिक पहलू और क्षमा मन्त [ ... ]

अधिकम् पठतु
रावण पराजय और सीता हरण क्यों...

*“ रावण - पराजय और सीता - हरण क्यों ?
“* नारायण ! श्रीमद् देवीभ [ ... ]

अधिकम् पठतु
महाशिवरात्री व्रत कथा...

महा देव औरशिवरात्रि जप तप ब्रतकी कथा पूर्व काल में चित्रभ [ ... ]

अधिकम् पठतु
एक रोचक कथा - पंडित अजय भारद्वाज द्वारा...

हमारे मन में बहुत बार यह ख्याल आता है कि क्या वो मालिक/ भगव [ ... ]

अधिकम् पठतु
महाशिवरात्रि 2018: तिथि को लेकर संशय दो तारीखों मे...

महाशिवरात्रि 2018: तिथि को लेकर संशय, कब निकलेगी भोलेनाथ की ब [ ... ]

अधिकम् पठतु
कमला सोहोनी

कमला सोहोनी १०१२ तमे वर्षे अजायत । तस्याः पिता नारायणराव [ ... ]

अधिकम् पठतु
कर्कटी (राक्षसी)

ब्रह्मवादिनीषु काचित् राक्षसी अपि अस्ति । सा तपः प्रभाव [ ... ]

अधिकम् पठतु
कपिलः (ऋषिः)

ऋषिः कपिलः सांख्यदर्शनस्य प्रवर्तकः अस्ति । भागवतपुराण [ ... ]

अधिकम् पठतु
कनकदासः


कनकदासः (Kanaka Dasa) श्रेष्ठः कीर्तनकारः । (Kannada:ಕನಕದಾಸರು)कर्णाटक [ ... ]

अधिकम् पठतु
कठसंहिता

कठसंहिता यजुर्वेदस्य सप्तविंशति-शाखासु अन्यतमाऽस्ति ।  [ ... ]

अधिकम् पठतु
अन्य लेख